AUTHOR

header ads

Toll Tax Rules in India and who exempted

Toll Tax Rules in India and who exempted, भारत में टोल टैक्स के नियम और किसको छूट

टोल टैक्स के संग्रह की नीति राष्ट्रीय राजमार्ग अधिनियम 1956 (National Highway Act 1956) के अंतर्गत बनाई गई राष्ट्रीय राजमार्ग कर के नियमों के आधार पर तय की जाती है।
Toll Tax free Vehicle and Person
Toll Tax Rules

What is Toll Tax ? टोल टैक्स क्या है?

टोल टैक्स राष्ट्रीय राजमार्गों या सड़कों पर वाहन चलाने पर  शुल्क के रूप में निर्धारित दरों पर भुगतान किया जाने वाला प्रत्यक्ष कर है जिसका भुगतान करने के बाद ही वाहन को उस राजमार्ग में चलाया जा सकता है। भारत में विभिन्न वर्गों के अंतर्गत आने वाले व्यक्तियों एवं वाहनों को छूट दी गई है जिसका उल्लेख आगे किया गया है।

टोल टैक्स क्यों लगाया जाता है

सरकार के पास जब विशेष प्रकार की सड़कों/ राजमार्गों के निर्माण एवं उनके रखरखाव के लिए पर्याप्त मात्रा में धन इकट्ठा ना हो या लागत की सीमा अधिक हो जिसे वहन करना सरकार को बहुत मुश्किल हो, साथ ही नागरिकों को शीघ्रगामी व उच्च गुणवत्ता युक्त सड़कों/ राजमार्गों को उपलब्ध कराना हो तो सरकार प्राइवेट कंपनियों या प्राधिकरणों को ठेका देकर सड़कों/ राजमार्गों का निर्माण करवाती है। राजमार्ग के निर्माण में हुए खर्च की भरपाई के लिए या यूं कहें कि बेहतर सड़कों और राजमार्गों के उपयोग के बदले वाहनों से टोल प्लाजा पर टोल टैक्स लिया जाता है।

टोल टैक्स कब तक वसूला जा सकता है

सरकार सड़क बनाने व टोल लेने के लिए बिल्ड ऑपरेट ट्रांसफर नीति को अपनाती है। इस नियम के मुताबिक सड़क/ राजमार्ग निर्माण करने वाली कंपनी का समस्त खर्च की भरपाई होने तक या अधिकतम 30 साल तक (इसमें से जो भी पहले हो) टोल कर वसूल कर सकती है। इसके बाद उस राजमार्ग या सड़क पर किसी प्रकार का कोई भी टोल टैक्स नहीं वसूल किया जाएगा।

टोल प्लाजा पर फास्ट टैग लेन

भारत सरकार के नियमानुसार 1 दिसंबर 2019 से जो वाहन राजमार्ग पर चलेंगे उनमें फास्ट टैग (Fast Tag) लाग होना चाहिए, यदि कोई चालक जिसकी गाड़ी पर फास्ट टैग नहीं लगा हुआ है वह गलती से भी उस लेन में जिस पर फास्ट टैग लिखा हुआ है, गाड़ी ले जाता है तो उससे दोगुना टैक्स वसूल किया जाएगा।

टोल प्लाजा पर नकद भुगतान कर सकते या नहीं

सभी टोल प्लाजा पर फास्ट टैग (Fast Tag) व्यवस्था लागू हो जाने के बावजूद भी अभी सभी टोल प्लाजा (टोल बूथ/ टोल नाका) पर एक लेन नकद रूप में टोल टैक्स देने वालों के लिए रखी गई है। जिसमें नगद रूप से भुगतान करने वाले वाहनों को, नगद भुगतान करने की सहूलियत दी गई है। हालांकि इस प्रक्रिया में काफी समय लगता है इसलिए वाहनों की लंबी कतारें लगती है।

What is Fast Tag फस्ट टैग क्या है

Fast Tag (फास्ट टैग)  वाहनों के विंडस्क्रीन में लगा हुआ रेडियो फ्रिकवेंसी आईडेंटिफिकेशन तकनीक (RFID) युक्त टैग है। जैसे ही फास्ट टैग लगी गाड़ी टोल प्लाजा पर लगे सेंसर के संपर्क में आती है तो फास्ट टैग से स्वत: टोल टैक्स जो निर्धारित होता है वह काट लिया जाता है। इसमें प्रयोग की जाने वाली तकनीक शॉपिंग मॉल में उपयोग होने वाले वाईफाई सपोर्टेड कार्डों की भॉति होती है।

फास्ट टैग सिस्टम क्यों बनाया गया

Toll Plaza (टोल प्लाजा) पर टोल टैक्स अदा करने के लिए लंबी-लंबी लाइनें लगती थी जिससे समय की बर्बादी होती थी लोगों को इससे परेशानी होती थी। इससे बचाने के लिए साथ ही सरकार के मिशन डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए, इस प्रणाली का विकास किया गया है। इस प्रणाली के विकसित हो जाने से टोल टैक्स का संग्रह डिजिटल माध्यम से कम समय में आसानी के साथ किया जा सकता है।

टोल टैक्स कितनी लेन वाली सड़कों पर लगता है

टोल टैक्स नियम के अनुसार टोल टैक्स तभी लगाया जा सकता है जब सडक की 4 लेन या उससे अधिक लेन चल रहींं हों, भले ही निर्माण कार्य अभी चल रहा हो।

टोल टैक्स भुगतान की दरें Toll Tax Rate

टोल टैक्स की दरें स्थान एवं राज्य के अनुसार अलग-अलग हो सकती हैं। सामान्य टोल टैक्स की दरें इस प्रकार से हैं:-
एक तरफ का बेस रेट किलोमीटर/रुपये में
1. कार, जीप और हल्के मोटर वाहन - 0.65
2. हल्के व्यावसायिक वाहन, हल्के सामान वाहन और छोटी बस - 1.05
3. ट्रक एवं बस - 2.20
4. भारी निर्माण मशीनरी मल्टी व्हीकल - 3.45
5. भारी साइज वाहन - 4.20

टोल टैक्स फ्री वाहन Toll Tax Free Vehicles

 भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से टोल टैक्स छूट प्राप्त वाहनों की लिस्ट यहां पर नीचे दी जा रही है:-
1. रक्षा मंत्रालय जिसमें वह भी हैं जो भारतीय पथ कर ( सेना (आर्मी) और वायु सेना) अधिनियम 1901 के उपबंधो और उसके अधीन बनाए गए नियमों जो नौसेना पर भी लागू है, उसके अनुसार छूट के लिए पात्र हैं।
2. अर्द्धसैनिक बलों और पुलिस सहित वर्दीधारी केंद्रीय और राज्य सशस्त्र बल।
3. कार्यपालक मजिस्ट्रेट।
4. अग्निशमन विभाग व संगठन।
5. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण या कोई अन्य संगठन जो ऐसे वाहन का उपयोग राष्ट्रीय राजमार्ग के निरीक्षण, सर्वेक्षण, निर्माण या प्रचालन और तत्संबंधी रख रखाव के लिए प्रयोग में लाया जा रहा हो।
6. रोगी वाहन (एम्बुलेंस) के रूप में उपयोग किया जा रहा वाहन।
7. शव वाहन के रूप में प्रयोग किया जा रहा वाहन।

टोल टैक्स फ्री व्यक्ति Toll Tax Free Person

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा या अन्य प्राधिकरण/ कंपनी के द्वारा निम्नलिखित व्यक्तियों से टोल टैक्स नहीं लिया जाता है:-
1. भारत के राष्ट्रपति
2. भारत के उपराष्ट्रपति
3. भारत के प्रधानमंत्री
4. राज्य के राज्यपाल
5. भारत के मुख्य न्यायाधीश
6. लोकसभा के अध्यक्ष
7. संघीय मंत्रिमंडल के मंत्री
8. किसी राज्य के मुख्यमंत्री
9. उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश
10. संघ के राज्य मंत्री
11. संघ राज्य क्षेत्र के उप राज्यपाल
12. सेनाध्यक्ष जो पूर्ण जनरल अथवा समकक्ष रैंक पर होंं।
13. राज्य विधान परिषद के सभापति।
14. राज्य विधान सभा के अध्यक्ष।
15. उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश
16. उच्च न्यायालय के न्यायाधीश
17. संसद सदस्य (Member of Parliament)।
18. आर्मी कमांडर अथवा उप सेनाध्यक्ष तथा अन्य सेनाओं में समकक्ष रैंक धारी।
19. राज्य में संबंधित राज्य सरकार के मुख्य सचिव
20. सचिव, भारत सरकार
21. सचिव, राज्य सभा
22. सचिव, लोक सभा
23. सरकारी दौरे पर उच्च पदस्थ विदेशी अधिकारी
24. अपने संबंधित राज्य में, किसी राज्य की विधानसभा अथवा विधान परिषद के सदस्य, यदि वह राज्य के संबंधित विधान मंडल द्वारा जारी पहचान पत्र दिखाते हैं तो छूट प्राप्त करने के हकदार हैं।
25. परमवीर चक्र, अशोक चक्र, महावीर चक्र, कीर्ति चक्र, वीर चक्र और शौर्य चक्र पुरस्कार प्राप्तकर्ता व्यक्ति जो ऐसे पुरस्कार के लिए उपयुक्त अथवा सक्षम प्राधिकारी द्वारा विधिवत प्रमाणित अपना फोटो युक्त पहचान पत्र प्रदर्शित करता है (दिखाता है) तो उनसे टोल टैक्स नहीं लिया जाएगा।

Army equivalent Designations Army


Army
Air Force
Navy
Field Marshal
Marshal of Air Force
Admiral of the Fleet
General
Air chief Marshal
Admiral
Lt. General
Air Marshal
Vice Admiral
Major General
Air Vice Marshal
Rear Admiral

Commander equivalent Post


Army
Air Force
Navy
Brigadier
Air Commodore
Commodore
Colonel
Group Captain
Captain
Lt. Colonel
Wing Commanderl
Commander

सैनिकों से टोल टैक्स कब लिया जाता है

सैनिकों से टोल टैक्स उसी स्थिति में लिया जाता है जब सैनिकों के द्वारा पोस्टिंग/ ट्रांसफर के समय अपना हाउसहोल्ड आइटम किसी ट्रक या बिजनेस वाले वाहन में रखकर एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है और बीच में पड़ने वाले टोल प्लाजा पर टोल टैक्स देना होता है इसमें किसी प्रकार की कोई भी छूट नहीं है। सैनिकों को टोल टैक्स में छूट सिर्फ पर्सनल वाहन (वह वाहन जिसका उपयोग व्यावसायिक न किया जा रहा हो) पर ही लागू है। यह नियम सिपाही रैंक से लेकर के मेजर रैंक तक के लिए लागू है।

भूतपूर्व सैनिकों का टोल टैक्स मॉफ या नहीं

भूतपूर्व सैनिकों से जुड़े हुए संगठनों के द्वारा लगातार केन्द्र सरकार से भूतपूर्व सैनिकों का टोल टैक्स मॉफ करने के संबंध में मांग रखी जा रही है, परंतु अभी तक केंद्र सरकार द्वारा भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को भूतपूर्व सैनिकों को टोल टैक्स में छूट देने से संबंधित कोई दिशा निर्देश नहीं जारी किए गए हैं। भूतपूर्व सैनिकों को टोल टैक्स में किसी प्रकार की कोई भी रियायत नहीं है।

टोल टैक्स में 25% की छूट कब व कैसे मिलती है

जब 24 घंटे के अंदर ही उसी टोल रोड से दोबारा वापस आना हो तो इस दशा में आपको 25% छूट का लाभ मिलेगा। इस छूट को प्राप्त करने के लिए आपको पहले ही टोल प्लाजा पर आने-जाने की रसीद ले लेनी चाहिए।

Post a Comment

0 Comments