AUTHOR

header ads

Advantages and Disadvantages of Credit Card in Hindi

Credit Card बनवाने से पहले आपको क्रेडिट कार्ड से जुड़े हुए सभी प्रकार के पहलुओं को देख लेना चाहिए ताकि आपको बाद में किसी प्रकार की कोई भी परेशानी ना हो, और आप जिस किसी बैंक या संस्थान का क्रेडिट कार्ड लेने जा रहे हैं उससे संबंधित आपको सामान्य तौर पर पूरी जानकारी होनी चाहिए जोकि पोस्ट में आपको बताई जाएगी।



What is Credit Card? क्रेडिट कार्ड क्या है?

क्रेडिट कार्ड किसी बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा जारी किया गया वह कार्ड है जिसके माध्यम से कोई व्यक्ति उस कार्ड में दी गई सीमा तक बिना किसी पूर्व भुगतान या जमा के ही किसी वस्तु या सेवा को खरीदने की सुविधा देता है।

Credit Card कितने प्रकार (Types) के होते हैं?

क्रेडिट कार्ड  को अनेक कैटेगरी में बांटा गया है, जैसे- रिवार्ड क्रेडिट कार्ड, कैशबैक क्रेडिट कार्ड, फ्यूल क्रेडिट कार्ड, खरीदारी क्रेडिट कार्ड, यात्रा क्रेडिट कार्ड, स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड, ग्रॉसरी क्रेडिट कार्ड, मनोरंजन क्रेडिट कार्ड, सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड, को ब्रांडेड क्रेडिट कार्ड, बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड तथा किसान क्रेडिट कार्ड।

Credit Card (क्रेडिट कार्ड) बनवाने के लिए योग्यताएं?

  • आवेदक की उम्र 18 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए।

  • आवेदक के पास आय का स्रोत होना चाहिए, आय का स्रोत वेतन/ पेंशन/ व्यवसाय कुछ भी हो सकता है।

क्रेडिट कार्ड (Credit Card) बनवाने के लिए न्यूनतम आय कितनी होनी चाहिए?

क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए न्यूनतम आय अलग अलग बैंकों/ वित्तीय संस्थानों द्वारा अलग अलग निर्धारित की गई है।

क्रेडिट कार्ड (Credit Card) बनवाने के लिए जरूरी कागजात

पहचान प्रमाण के लिए कागजात

  • पासपोर्ट

  • आधार कार्ड

  • ड्राइविंग लाइसेंस

  • पैन कार्ड

  • मतदाता पहचान पत्र

  • सरकारी या गैर सरकारी संस्थानों द्वारा जारी कर्मचारी पहचान पत्र (उपरोक्त बताए गए कागजात में से कोई एक)

पता प्रमाण के लिए कागजात

  • मतदाता पहचान पत्र

  • रेंट एग्रीमेंट

  • बिजली बिल

  • पानी बिल

  • गृह कर रसीद

  • टेलीफोन/ मोबाइल बिल

  • क्रेडिट कार्ड बिल

  • प्रापर्टी टैक्स रसीद

  • बैंक खाता स्टेटमेंट

  • राशन कार्ड

  • सरकारी या गैर सरकारी संस्थानों द्वारा जारी अपने कर्मचारियों को सर्विस सर्टिफिकेट (उपरोक्त बताए गए कागजात में से कोई एक)

उम्र प्रमाण के लिए कागजात

  • जन्म प्रमाण पत्र

  • आधार कार्ड

  • मतदाता पहचान पत्र

  • पेंशन पेमेंट ऑर्डर

  • शैक्षिक प्रमाण पत्र जिस पर जन्म तिथि लिखी हूई हो।

  • जीवन बीमा बाॅण्ड (उपरोक्त बताए गए कागजात में से कोई एक)

आय प्रमाण के लिए जरूरी कागजात

आय प्रमाण के लिए प्रत्येक वर्ग के लिए अलग-अलग प्रकार के कागजातों की आवश्यकता पड़ती है।

वेतनभोगी के लिए आय प्रमाण के कागजात

वेतन भोगी में दोनों प्रकार के कर्मचारी सरकारी व प्राइवेट दोनों को सामिल किया गया है।

  • वर्तमान 3 महीने की सैलरी स्लिप

  • सैलरी खाते का पिछले 6 महीने तक का स्टेटमेंट

  • फार्म 16

स्व नियोजित/ व्यवसाय वालों के लिए आय प्रमाण के कागजात

  • आय गणना/ कर निर्धारण का वर्तमान ITR

  • लगातार व्यापार चलाने का प्रमाण-पत्र

किसानों को Credit Card बनवाने के लिए आय प्रमाण के कागजात

  • तहसील से जारी किया गया किसान के नाम खेती का 12 साला विवरण।

बैंकों में जमा फिक्स डिपॉजिट वालों के लिए

बैंकों में जमा फिक्स डिपॉजिट वालों के लिए किसी प्रकार के आय प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है यदि वह उसी पर क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं, परंतु ध्यान रहे कि जब तक आप क्रेडिट कार्ड को बंद नहीं करवायेंगे तब तक आप फिक्स डिपॉजिट के रुपये निकाल नहीं पायेंगे, हालांकि इस फिक्स डिपॉजिट पर पहले जैसा ही ब्याज मिलता रहेगा इसमें कोई कटौती नहीं होगी। बैंकों में जमा फिक्स डिपॉजिट एक प्रकार से जमानत का काम करेगी।

बिना ब्याज दिये क्रेडिट कार्ड के रुपये कितने दिनों तक प्रयोग कर सकते हैं?

बिना ब्याज दिये क्रेडिट कार्ड के रुपये न्यूनतम 20 दिनों से लेकर 50 दिनों तक प्रयोग कर सकते हैं। जिस दिन बिल बनता है उसके अगले दिन यदि कोई खरीदारी करते हैं तो आपको अधिक दिन का लाभ उठाने का मौका मिलेगा। जैसे जैसे आप बिल बनने की तारीख के नजदीक क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करेंगे उसी हिसाब से आपको रुपये भरने के लिए समय कम होता जायेगा। किसी भी दशा में आपको न्यूनतम 20 दिनों का समय अवश्य मिलता है।

क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान समय पर न करने पर लेट फीस लगती है क्या?

क्रेडिट कार्ड का बिल यदि समय पर भुगतान ना किया जाए तो इस पर लेट फीस भी लगाई जाती है। यह लेट फीस अलग-अलग बैंकों/ संस्थानों द्वारा अलग-अलग प्रकार से निर्धारित की जाती है। अतः बैंकों के इस नियम को पहले ही देख लें।

क्रेडिट कार्ड बनाते समय बैंक क्या देखते हैं?

क्रेडिट कार्ड बनाते समय बैंक या संस्थान ग्राहक की क्रेडिट हिस्ट्री (Credit History) देखते हैं कि आपकी लेनदेन की आदत कैसी है, आप समय पर कोई भुगतान करते हैं या नहीं।

क्रेडिट कार्ड लिमिट/ सीमा

क्रेडिट कार्ड बनाते समय बैंक या संस्थान या देखता है कि आपको कितने रुपए तक का लिमिट या सीमा दी जाए जिससे बैंक का रुपया सुरक्षित रहे। क्रेडिट कार्ड की सबसे कम लिमिट ₹20,000 जो कि भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) द्वारा दी जाती है जो कि ग्राहक के लेनदेन की प्रकृति देखकर एक साल बाद बढ़ा भी सकता है। अधिकांशतः देखा गया है कि क्रेडिट कार्ड की अधिकतम लिमिट सिटी बैंक (Citi Bank) द्वारा उपलब्ध कराई जाती है। यदि आप सिटी बैंक का क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहते हैं तो यहां पर क्लिक करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

सबसे अच्छा क्रेडिट कार्ड किस बैंक का है और क्यों?

सबसे अच्छा क्रेडिट कार्ड सिटी बैंक (Citi Bank) का है इसके पक्ष में कई तर्क है।

  • सबसे अधिक क्रेडिट लिमिट देने वाला बैंक।

  • सैलरी/ व्यवसाय वालों के लिए बिना किसी शुल्क के कार्ड जारी करना।

  • ऑनलाइन आवेदन करने पर आपके घर से कागजात लेने की सुविधा।

  • कोई सालाना शुल्क नहीं यदि किसी वर्ग पर यह शुल्क लगता है तो उसे नियमानुसार जो खरीदारी करने की लिमिट निर्धारित की गई है यदि साल भर में वह प्राप्त कर ली जाती है तो उसे शुल्क मुक्त कर दिया जाता है।

  • शीघ्र प्रोसेस एवं बेहतर सेवाएं।

  • उत्तराधिकारी के लिए कार्ड ऐडऑन की निःशुल्क सुविधा।

क्रेडिट कार्ड का बिल कैसे भर सकते हैं?

क्रेडिट कार्ड का बिल भुगतान करने के ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरीके मौजूद हैं।

क्रेडिट कार्ड बिल भुगतान करने ऑफलाइन तरीका

  • संबंधित बैंक में जाकर नगरूप में जमा करना।

  • संबंधित बैंक में जाकर चेक के माध्यम से जमा करना।

क्रेडिट कार्ड बिल भुगतान करने का ऑनलाइन तरीका

  • इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से।

  • अपने खाते में ऑटो डेबिट सुविधा लगाकर।

  • पेटीएम, अमाॅजान, फोन पे आदि ऐप के माध्यम से।

  • भीम अथवा यूपीआई के माध्यम से।

क्रेडिट कार्ड एप्लीकेशन रिजेक्ट होने पर क्या करें?

क्रेडिट कार्ड का एप्लीकेशन यदि रिजेक्ट हो जाता है तो उसके पीछे आपकी क्रेडिट हिस्ट्री (क्रेडिट स्कोर) का खराब होना ही होता है, आप 3 महीने के बाद पुनः आवेदन कर सकते हैं।

क्रेडिट स्कोर/ क्रेडिट हिस्ट्री कैसे ठीक करें?

क्रेडिट स्कोर/ क्रेडिट हिस्ट्री ठीक करने के लिए आपको निम्नलिखित कार्य करने चाहिए-

  • बैंक खातों में जितना हो सके अधिक से अधिक धनराशि जमा करके रखें।

  • यदि आपका कोई लोन चल रहा है तो उसे नियमित रूप से समय पर भरते रहें।

  • बिजली, पानी, टेलीफोन, गृह कर आदि के बिलों को समय पर जमा करते रहें।

  • किसी भी वित्तीय संस्थान में डिफाल्टर ना बने।

क्रेडिट कार्ड बनवाते समय ध्यान देने वाली बातें? Disadvantages of Credit Card

क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए बहुत से बैंक या संस्थान आपको अनेक प्रकार के ऑफर या प्रलोभन देते हैं या दे सकते हैं परंतु क्रेडिट कार्ड बनवाने से पहले आपको निम्नलिखित बातों पर ध्यान अवश्य देना चाहिए

क्रेडिट कार्ड वार्षिक शुल्क

अधिकतर क्रेडिट कार्ड जारी करने वाले बैंक या संस्थान क्रेडिट कार्ड पर वार्षिक शुल्क वसूल करते हैं, जो न्यूनतम ₹499 तथा 18% जीएसटी के साथ शुरू होकर कार्ड की कैटेगरी के अनुसार आगे बढ़ता जाता है। क्रेडिट कार्ड पर लगने वाला वार्षिक शुल्क कार्ड किस कैटेगरी का बनवाया गया है इस पर निर्भर करता है।

क्रेडिट कार्ड वार्षिक शुल्क माफी

विभिन्न क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता बैंक या संस्थान कुछ शर्तों के साथ वार्षिक शुल्क को माफ भी कर देते हैं जैसे यदि ग्राहक कार्ड का प्रयोग कर 1 साल के अंदर 60000 या 100000 या डेढ़ लाख रुपए तक की खरीदारी कर लेता है तो उसका वार्षिक शुल्क माफ कर दिया जाता है परंतु आपको यह जरूर ध्यान देना है कि यह शुल्क माफी आपको तभी दी जाती है जब आप उस साल के अंदर तय की गई सीमा तक खरीदारी कर लेते हैं यदि आप इस तय की गई सीमा तक खरीदारी नहीं करते हैं तो आपको शुल्क में कोई छूट नहीं मिलती है।

कैशबैक या रिवार्ड प्वाइंट

क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता बैंक या संस्थान ग्राहक को ऑफर देता है कि कैशबैक या रीवार्ड प्वाइंट के रूप में आपको कुछ सुविधा मिलेगी। कैशबैक के लिए अधिकांश बैंक अपना पार्टनर पहले से चुने हुए होते हैं अतः वह लोग सिलेक्टेड पार्टनर के साथ खरीदारी करने पर ही आपको कैशबैक देते हैं इस संबंध में बैंक या संस्थान अपनी पॉलिसी अपडेट करता रहता है।अब बात करते हैं रिवॉर्ड पॉइंट की तो यदि आप ₹100 की खरीदारी करते हैं तो अधिकांशत बैंक या संस्थान एक रिवॉर्ड पॉइंट देते हैं। यदि आप ने चार रिवॉर्ड पॉइंट इकट्ठा किए हैं तो आपको इसके बदले एक रुपए मिलेगा। इस पर अलग-अलग बैंकों व संस्थानों के नियम भी अलग हो सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड पर लगने वाला ब्याज दर?

क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने पर आपको 50 दिन से लेकर के 20 दिन तक का समय निशुल्क दिया जाता है इस दौरान आपसे कोई भी ब्याज नहीं लिया जाता है परंतु यदि समय पर बिल का भुगतान नहीं करते हैं तो इसमें आपको 3.5% के आसपास का प्रतिमा शुल्क लगता है, यह शुल्क विभिन्न बैंकों में अलग अलग हो सकता है।

क्रेडिट कार्ड से नकद धन निकासी शुल्क?

क्रेडिट कार्ड का प्रयोग खरीदारी या भुगतान के लिए करने पर कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना होता है। यह खरीदारी आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यम से कर सकते हैं, परंतु यदि क्रेडिट कार्ड के माध्यम से कोई ग्राहक किसी एटीएम से रुपए निकालता है तो उससे दंड के रूप में ₹300 तथा जो धनराशि निकाली गई है उसका 2.5% से 3.5% तक प्रति महीना की दर से शुल्क लगाया जा सकता है, यह शुल्क कितना लगेगा इसका निर्णय कार्ड जारी करने वाले बैंकों या संस्थानों पर निर्भर करता है। अतः कभी भी किसी भी एटीएम से नकद रूप में क्रेडिट कार्ड के माध्यम से रुपए ना निकाले।

क्रेडिट कार्ड के फायदे Advantages of Credit Card?

क्रेडिट कार्ड बनवाने के अनेक फायदे होते हैं।

  • बचत खाते से बिना धनराशि निकाले किसी चीज को दी गई सीमा तक खरीदा या उसका भुगतान किया जा सकता है जिससे बचत खाते में मौजूदा धनराशि पर ब्याज भी मिलता रहता है।

  • क्रेडिट कार्ड के माध्यम से 20 से लेकर 50 दिन तक बिना ब्याज के खरीदारी की जा सकती है।

  • कैशबैक एवं रिकार्ड के रुप में बोनस भी मिलता है।

  • क्रेडिट कार्ड से लगातार लेनदेन करते रहने व समय पर भुगतान करने से क्रेडिट हिस्ट्री/ क्रेडिट स्कोर अच्छा बनता है।

  • क्रेडिट कार्ड से लगातार लेनदेन व समय पर भुगतान करने से क्रेडिट हिस्ट्री/ क्रेडिट स्कोर अच्छा बनता है जिससे निकट भविष्य में किसी प्रकार के लोन लेने की दशा में आसानी से मिल जाता है।

क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें?

क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के 2 तरीके हैं

ऑफलाइन

ऑनलाइन

क्रेडिट कार्ड के लिए ऑफलाइन आवेदन

क्रेडिट कार्ड के लिए जब कोई व्यक्ति किसी बैंक या वित्तीय संस्थान में जाकर स्वयं ही अपना आवेदन पत्र देता है इस दशा को ऑफलाइन माध्यम कहा जाता है।

क्रेडिट कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन

क्रेडिट कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन से मतलब यह है कि जब कोई व्यक्ति किसी बैंक या वित्तीय संस्थान की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके मांगी गई सूचना भरकर सबमिट कर देता है इस प्रक्रिया को ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया कहा जाता है। यह प्रक्रिया आसान और अति शीघ्र प्रक्रिया होती है।

यदि आपने ध्यान पूर्वक उपरोक्त लेख पढ़ लिया है तो आपको यह समझ में आ गया होगा कि क्रेडिट कार्ड के क्या फायदे हैं और क्या नुकसान हैं। यदि आप क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहते हैं और अधिक से अधिक क्रेडिट लिमिट चाहते हैं तो आप ऑनलाइन माध्यम से यहां पर दिए गए लिंक पर क्लिक करके सिटी बैंक (Citi Bank) के लिए आवेदन कर सकते हैं। Click Here यहां क्लिक करें

यदि इससे जुड़ा हुआ आपका कोई प्रश्न है अथवा आपका कोई सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते हैं। यदि आप अपने दोस्तों को क्रेडिट कार्ड के बारे में सूचित करना चाहते हैं तो इसे शेयर कर सकते हैं। इसी प्रकार की अन्य जानकारियों के लिए आप दोबारा sahijankari.com वेबसाइट पर आ सकते हैं।


Post a Comment

0 Comments